मंगलवार, 19 अक्तूबर 2010

रामायण: नारी की महानता का ग्रंथ

वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण एक ऐसा ग्रंथ है जिसे सामान्यत: राम की जीवन गाथा कहा जाता है। रामायण राम की जीवन गाथा तो है ही साथ ही रामायण में ऐसी बातें और सूत्र भी मौजूद है जो नारी को महान बनाती हैं।

रामायण में ऐसी कई महिलाएं हैं जिन्होंने अपना नारी धर्म पूरी निष्ठा के साथ निभाया और इसी वजह से वे आज भी पूजनीय है। रामायण की प्रमुख महिला पात्र सीता, कैकेयी, कौशल्या, सुमित्रा, अहिल्या, उर्मिला, अनसूया, शबरी, मन्दोदरी, त्रिजटा और शूर्पणखा, लंकिनी, मंथरा हैं। इन सभी महिलाओं में सीता, उर्मिला, अनसूया और मंदोदरी इन महिलाओं को सदैव पूजनीय माना गया है क्योंकि इन्होंने अपना पतिव्रत धर्म कभी नहीं छोड़ा। इनके अतिरिक्त भक्ति-भावना की प्रतिमूर्ति शबरी भी है। लंका में सीता की रखवाली करने वाली त्रिजटा भी है जो राक्षसी होते हुए भी सीता की सेवा कर खुद को अनुगृहीत मानती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें