बुधवार, 1 जून 2011

...और अहंकार ने ले ली 60 हजार की जान!!!

कुछ लोगों को अपनी शक्तियों पर बहुत अहंकार होता है। अपनी ताकत के नशे में किसी का सम्मान नहीं करते और सभी का उपहास उड़ाते रहते हैं या अपमान करते हैं। इन लोगों के पतन का कारण इनका अहंकार ही बनता है। इसलिए ध्यान रखें कि यदि आप बलशाली हैं या आपके पास कोई विशेष योग्यता है तो इसका दुरुपयोग न करें तथा किसी अन्य का अपमान न करें। अंहकार का दुष्परिणाम क्या होता यह जानने के लिये आइये चलते हैं एक बेहद रोचक और सच्ची घटना की तरफ...
श्रीराम के पूर्वज सूर्यवंशी राजा सगर की दो पत्नियां थीं केशिनी और सुमति। केशिनी का एक ही पुत्र था जिसका नाम असमंजस था, जबकि सुमति के साठ हजार पुत्र थे। असमंजस बहुत ही दुष्ट था। उसको देखकर सगर के अन्य पुत्र भी दुराचारी हो गए। उन्हें अपने बल पर बहुत ही घमंड था। घमंड में चूर होकर वे किसी का सम्मान नहीं करते थे। एक बार सगर ने अश्वमेध यज्ञ किया। तब इंद्र ने उस यज्ञ के घोड़े को चुराकर पाताल में कपिलमुनि के आश्रम में छुपा दिया। जब अश्व नहीं मिला तो सगर के पुत्रों ने पृथ्वी को खोदना प्रारंभ किया। तब पाताल में उन्हें कपिलमुनि के आश्रम में यज्ञ का घोड़ा दिखाई दिया।
यह देखकर घमण्ड में चूर सगर के सभी पुत्रों ने समाधि में लीन कपिल मुनि को भला-बुरा कहा। सगर पुत्रों की बात सुनकर जैसे ही कपिल मुनि ने आंखें खोली तो आंखों से निकली योगाग्रि से सभी सगर पुत्र वहीं भस्म हो गए।
.....और इस तरह अपनी शक्तियों के घमंड में चूर सभी सगर पुत्र अपनी योग्यताओं और क्षमताओं से लाभ उठाने की बजाय असमय ही मोत को गले लगा बैठे।
www.bhaskar.com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें