शुक्रवार, 12 सितंबर 2014

सामान्य ज्ञान -1

1. चीनी-तिब्बती भाषा समूह की भाषाओं के बोलने वालों को कहा जाता है-
    किरात
    निषाद
    द्रविड़
    आर्य
2. अपभ्रंश के योग से राजस्थानी भाषा का जो साहित्यिक रूप बना, उसे क्या कहा जाता है?
    पिंगल भाषा
    डिंगल भाषा
    मेवाड़ी भाषा
    बाँगरु भाषा
3. 'एक नार पिया को भानी। तन वाको सगरा ज्यों पानी।' यह पंक्ति किस भाषा की है?
    ब्रजभाषा
    खड़ीबोली भाषा
    अपभ्रंश भाषा
    कन्नौजी भाषा
4. निम्नलिखित में से 'छायावाद' के प्रवर्तक का नाम क्या है?
    सुमित्रानंदन पंत
    श्रीधर
    श्यामसुन्दर दास
    जयशंकर प्रसाद
5. अमीर ख़ुसरो ने जिन मुकरियों, पहेलियों और दो सुखनों की रचना की है, उसकी मुख्य भाषा कौन-सी है?
    दक्खिनी
    खड़ी बोली
    बुन्देली
    बघेली
6. देवनागरी लिपि को राष्ट्रलिपि के रूप में कब स्वीकार किया गया था?
    14 सितम्बर, 1949
    21 सितम्बर, 1949
    23 सितम्बर, 1949
    25 सितम्बर, 1949
7. 'रानी केतकी की कहानी' की भाषा को कहा जाता है-
    हिन्दुस्तानी
    खड़ी बोली
    उर्दू
    अपभ्रंश
8. प्रादेशिक बोलियों के साथ ब्रज या मध्य देश की भाषा का आश्रय लेकर एक सामान्य साहित्यिक भाषा स्वीकृत हुई, जिसे चारणों ने नाम दिया-
    डिंगल भाषा
    मेवाड़ी भाषा
    मारवाड़ी भाषा
    पिंगल भाषा

9. निम्नलिखित में से कौन-सी प्रेमचंद की एक रचना है?
    पंच-परमेश्वर
    उसने कहा था
    ताई
    खड़ी बोली
10. वीर रस का स्थायी भाव क्या होता है?
    रति
    उत्साह
    हास्य
    परिहास
----------------------------------------
1. इनमें किस इतिहासकार ने सर्वप्रथम रीतिकालीन कवियों के सर्वाधिक परिचयात्मक विवरण दिए हैं?
डॉ. विश्वनाथ प्रसाद मिश्र
डॉ. नगेन्द्र
डॉ.रामशंकर शुक्ल 'रसाल'
मिश्रबन्धु
2. 'हिन्दी साहित्य का अतीत: भाग- एक' के लेखक का नाम है?
आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी
डॉ. विश्वनाथ प्रसाद मिश्र
डॉ. माताप्रसाद गुप्त
डॉ. विद्यानिवास मिश्र
3. प्रेम लक्षणा भक्ति को किस भक्ति शाखा ने अपनी साधना का मुख्य आधार बनाया है?
रामभक्ति शाखा
ज्ञानाश्रयी शाखा
कृष्णभक्ति शाखा
प्रेममार्गी शाखा
4. मनुष्यत्व की सामान्य भावना को आगे करके निम्न श्रेणी की जनता में आत्म- गौरव का भाव जगाने वाले सर्वश्रेष्ठ कवि थे?
तुलसीदास
कबीर
जायसी
सूरदास
5. 'हंस जवाहिर' रचना किस सूफ़ी कवि द्वारा रची गई थी?
मंझन
कुतुबन
उसमान
क़ासिमशाह
6. 'देखन जौ पाऊँ तौ पठाऊँ जमलोक हाथ, दूजौ न लगाऊँ, वार करौ एक करको।' ये पंक्तियाँ किस कवि द्वारा सृजित हैं?
हृदयराम
अग्रदास
तुलसीदास
नाभादास
7. 'भक्तमाल' भक्तिकाल के कवियों की प्राथमिक जानकारी देता है, इसके रचयिता थे?
वल्लभाचार्य
नाभादास
रामानंद
नन्ददास
8. अमीर ख़ुसरो ने किसके विकास में अग्रणी भूमिका निभाई?
ब्रज भाषा
अवधी
खड़ी बोली
भोजपुरी
9. त्रिपुरा की राजभाषा है?
हिन्दी
नागा
संस्कृत
बांग्ला
10. 'हरिश्चन्द्री हिन्दी' शब्द का प्रयोग किस इतिहासकार ने अपने इतिहास ग्रंथ में किया है?
मिश्रबंधु
शिवसिंह 'सेंगर'
रामचन्द्र शुक्ल
रामविलास शर्मा

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें