रविवार, 21 मार्च 2010

मटरगश्ती का रोजगार


पुराना साल खत्म होने को था। सालभर चमकते सूरज के रुख में भी नरमी आ गई थी। दोपहर की हल्की गुनगुनी धूप मटर के खेत में बिखरी थी। लोमड़-लोमड़ी धूप के गुलाबी स्वाद के चटखारे लेती लग रही थी। असल में उसके मुँह में पानी आने की वजह कुछ और ही थी। किसी दूसरे के खेत में घुसकर मटर खाने के चक्कर में पिछले वर्ष उसकी जो पिटाई हुई थी, उसके चलते लोमड़ी ने तय कर लिया था कि अब यदि वह मटर की फलियों को कभी मुँह लगाएगी तो अपने खेत के ही, नहीं तो नहीं।
जिस प्रेम के साथ उसने मटर के नर्म बीज बोए थे। दुलार के साथ पौधों को बड़ा किया था उसी का परिणाम था कि नाजुक से पौधों पर प्यारे-प्यारे फूल खिले थे और कहीं-कहीं नन्ही-नन्ही फलियाँ भी पत्तों के बीच से झाँक रही थीं। बार-बार वह उन पर वारी जाती और कहती कि भगवान करे तुम सदा ऐसे ही रहो, मुस्कुराती-झूलती रहो।
दिसंबर का आखिरी सप्ताह था और लोमड़ी ने अभी तक अपने खेत का एक भी दाना मुँह में नहीं डाला था। हाय दैया! कहीं इन मुई फलियों ने मेरी बात को सच तो नहीं मान लिया, कि तुम सदा ऐसी ही रहो। मुटियाओ नहीं। दानों से भरो नहीं। फिर वह एक-एक फली को छूते-टटोलते हुए खेत में घूमने लगी। तो उसने क्या देखा? जगह-जगह खाई हुई मटर के छिलके पड़े हैं। कहीं-कहीं कच्ची फलियाँ भी किसी नासमझ ने तोड़कर पटक दी हैं। अब समझ में आया। जरूर कोई न कोई मेरी फलियाँ चुरा रहा है।
मटर के हरे-भरे खेत में भूरी लोमड़ी गुस्से से लाल-पीली होने लगी। और लगी पगलाकर अपनी ही दुम नोचने- मैं चालाक लोमड़ी और कोई मुझे ही बेवकूफ बना रहा है। जब दुम में जलन होने लगी तो उसे ध्यान में आया कि चिढ़ने-कुढ़ने से कुछ होना-जाना नहीं। अकल का उपयोग करके खुराफाती जीव को पकड़ना होगा।
खेत की बागड़ में जहाँ अंदर घुसने जितनी जगह थी, वहीं पर फंदा लगाने का लोमड़ी ने तय किया। खरगोश, गिलहरी, नेवला जो भी हो, यहीं से आता-जाता होगा। फंदा एकदम सीधा-सादा पतली रस्सी का था, जिसका एक सिरा बागड़ में बनी पोल के इर्द-गिर्द छुपा था और दूसरा अमरूद के पेड़ में। अमरूद की एक लचीली टहनी को मोड़कर नीचे अटका दिया था, इस तरह कि झटका लगते ही फट से निकलकर ऊपर हो जाए। रस्सी खिंचेगी, फंदा कसेगा और चोरी करने की नीयत से घुसा प्राणी बिलबिलाते हुए डाल से लटक जाएगा।
ऐसा ही हुआ। मटरगश्त खरहा शाम होते ही रोज की भाँति उछलते-कूदते मटर की दावत उड़ाने चला आया। अमावस की रात थी। अँधेरा घुप्प था। किसी के देखने का डर नहीं था। सो वह ज्यादा ही लापरवाह था। मटर के खेतों में हाथ साफ करने का लंबा अनुभव था उसे। तभी तो नाम मटरगश्त पाया था उसने। आज किस्मत धोखा दे गई। मुँह से चूँ तक न निकला। इसके पहले ही वह जाकर अमरूद की डाली से लटकने लगा, विक्रमादित्य के वेताल की तरह। सामने के पंजे फंदे में अटके थे और घिग्गी बँध गई थी सो अलग।
पूस की रात में भी खरहे को पसीना छूट गया, लेकिन क्या करता। लटका रातभर कुल्फी जमाते हुए। झुटपुटा हो रहा था। रात को देर से सोयी लोमड़ी साल के पहले दिन देर से ही जागेगी। लेकिन यहाँ से छूटने की कुछ जुगत तो भिड़ानी ही होगी। खरहे का फितूरी दिमाग खट-खट चलने लगा। तभी पगडंडी पर धप्प-धप्प की आहट सुनाई दी। बागड़ के उस पार कुछ काला सा चला आ रहा था।
अरे यह तो भुक्कड़ भालू है। खुराक की तलाश में मुँह अँधेरे ही बालों का घना लबादा ओढ़े निकल पड़ा है। खरहे के दिमाग में क्लिक हुआ और वह लगा जोर-जोर से झूलने। जो भी दोहे-चौपाइयाँ उसे याद आईं लगा उनका ऊँची आवाज में पाठ करने।

पहले तो भालू भी चौंका कि यह क्या माजरा है। भूत-प्रेत तो नहीं? थोड़ी देर वह दूर से ही खरहे की ये हरकतें देखता रहा, फिर पूछ बैठा कि यह क्या चल रहा है? लटूम रहा हूँ और कूदा-फाँद करके रुपया भी बना रहा हूँ। इतना कहकर खरहा और जोर से झूमने लगा। अब भालू से रहा न गया। भई लटूम झूम रहे हो, यह तो मैं भी देख रहा हूँ...लेकिन रुपया बनता नहीं दीख रहा।
खरहे ने अपना प्रलाप बंद किया और कहा कि लोमड़ी ने बड़े जतन से मटर उगाई है। चिड़िया-कौवे आकर उन्हें चुग न जाए इसलिए उसने मुझे रखवाली का काम सौंपा है। मैं जिंदा लाल बुझक्कड़ बनकर उन्हें भगा रहा हूँ। इसके लिए लोमड़ी मुझे घंटे के दस रुपए दे रही है। पिछली शाम से अब तक सवा सौ रुपया बना चुका हूँ। लंबे समय तक भालू को चुप देखकर खरहे ने पूछा- क्या तुम्हें भी रोजगार चाहिए?
मानो उसने भालू के मन की बात कह दी। भालू का बड़ा कुनबा था और सबके सब उसी की तरह भुक्कड़। बच्चे-कच्चों के लिए राशन जुटाते-जुटाते बेचारा आजीज आ जाता। उसने तुरंत हाँ भरी। अमरूद के पेड़ पर चढ़कर पहले तो उसने खरहे के पंजे छुड़ाए फिर खुद के पंजे फंदे में अटकाकर डाल से लटूम गया। श्लोक-दोहे उसे आते न थे, सो लगा घों-घों की आवाज निकालने।
नए साल का पहला सूरज निकला और अभी पूरब के आसमान में बाँस भर ही चढ़ा था कि लोमड़ी उधर आ निकली। कुछ न कुछ तो फँसा होगा। छोटा-मोटा जीव होगा तो दावत हो जाएगी। भारी-भरकम लोठ को लटका देख उसका दिल धक से रह गया। यह तो छूटते ही मुझे मारने दौड़ेगा। लेकिन गुस्सा भी था। लोमड़ ने अपने हाथ की बेंत से भालू की खूब पिटाई उड़ाई।
इतनी कि बेंत तो टूटी ही, भालू के छटपटाने से रस्सी भी टूटी और वह धम्म से नीचे आ गिरा। लोमड़ी पहले ही निकल भागी थी सो वह तो भालू को दिखी नहीं लेकिन खरहे पर अपना गुस्सा निकालने के लिए वह उसके पीछे हो लिया। खरहे को पहले से इस होनी का अंदाज था और डर भी। क्योंकि अब सामना लोमड़ी से नहीं भालू से था।
रातभर के थके-हारे भूखे खरहे से वैसे भी दौड़ते नहीं बना था सो वह थोड़ी ही दूर पगडंडी पर मचे कीचड़ में छुप कर बैठ गया। इस तरह कि पूरा शरीर तो कीचड़ में धँसा, सिर्फ मुँह और आँखें ऊपर, मानो वह एक मेंढक हो। लाल आँखों वाला खौफनाक मेंढक, खरहे ने मन ही मन सोचा। थोड़ी ही देर बाद हड़बड़ाया भालू उधर आ निकला। ऐसे अजीब से मेंढक को देखकर चौंका। इतनी सुबह जब जंगल में चहल-पहल की शुरुआत भी न हुई हो, इस अजीबो-गरीब मेंढक से ही पूछना होगा कि क्या कोई खरगोश अभी-अभी यहाँ से गुजरा है क्या।
भालू अभी सोच ही रहा था कि खरहे ने भर्राई आवाज में टर्राने की कोशिश करते हुए पूछा कि खुशकिस्मत खरहे को बिदा करने आए थे क्या? सुबह गला फाड़कर पाठ करने के कारण खरहे की आवाज में बला का खरखरापन आ गया था- 'खरहे को कहीं से रुपया हाथ आ गया था सो सुबह की पहली बस पकड़कर अभी-अभी शहर निकल गया है वहीं नई जिंदगी शुरू करने। सबको नए वर्ष की शुभकामनाएँ देने के लिए कह गया है मुझे।'

एक ही थैली के चट्टे-बट्टे

अनुपम को लगभग सभी एक स्मार्ट बच्चा मानते थे। वह था भी। पढ़ाई में होशियार, खेलों में बेहतर और हाजिर जवाब। सिर्फ मम्मी-पापा और छोटी बहन कुमकुम को ही यह रहस्य मालूम था कि रात होते ही उसकी पमपम बज जाती है। अनुपम को अँधेरे से बहुत डर लगता था। डर भी इतना कि अँधेरे कमरे में अकेले जाने की बात तो छोड़िए, मद्धिम रोशनी से भी उसे घबराहट होने लगती थी। उसके कारण लंबे समय से वे लोग कोई फिल्म सिनेमा हॉल में नहीं देख पाए थे। मम्मी-पापा के बेडरूम और कुमकुम के कमरे के बीच अनुपम का सुंदर, हवादार कमरा था। फिर भी रात को सोने के लिए वह कुमकुम के कमरे में घुस आता था। कुमकुम को भैया से बड़ी चिढ़ छूटती, क्योंकि अनुपम सारी रात एक बड़ा-सा बल्ब नाइट लैंप की तरह जलाए रखता।
अनुपम को भी अपनी इस कमजोरी पर बड़ी बौखलाहट होती। वह खुद समझ नहीं पाता था कि अँधेरे में ऐसा क्या है जिसका उसे डर लगा रहता है। राक्षस... शेर...? नहीं। वह जानता था कि ये सब केवल कहानियों में या जंगल में ही पाए जाते हैं। 'मैं नहीं जानता', 'मुझसे कुछ मत पूछो' यही उसका उत्तर रहता।
शनिवार की शाम दफ्तर से घर लौटते समय पापा एक टेलीस्कोप प्रोजेक्ट ले आए। रविवार की पूरी सुबह और दोपहर अनुपम और पापा ने साथ बैठकर डिब्बा भर कलपुर्जों से एक पूरी टेलीस्कोप बना ली। अनुपम को इसमें काफी मजा आ रहा था। उसे अंदाज नहीं था कि रात होते ही यह टेलीस्कोप उसकी परेशानी का सबब बन जाएगी। इसका ध्यान तो उसे तब आया, जब रात को खाना खाने के बाद सब लोग तारे देखने के लिए छत पर जाने को तैयार हो गए। इसका मतलब कुम्मी को भी इस योजना का पता था।
अनुपम को गुस्सा तो आया, लेकिन अँधेरे का डर उससे भी बड़ा निकला। पापा कंधों से ठेलकर उसे छत पर ले गए। पापा का सोचना था कि चन्द्रमा, तारे और नक्षत्रों की तिलस्मी दुनिया देखकर अनुपम उनमें खो जाएगा और उसका भय भी जाता रहेगा।
लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। अनुपम की आँखें आकाश के नजारों से ज्यादा आसपास के अँधेरे को टटोल रही थीं। हवा से आकाश नीम के ऊँचे पेड़ डोल रहे थे। पीपल की पत्तियाँ लगातार हँसे जा रही थीं। 'पापा यह सरसराहट कैसी है?' अनुपम ने पूछा। 'हो सकता है कोई गिरगिट नींद नहीं आने के कारण चहलकदमी कर रहा हो' पापा ने बड़ी आसानी से कह दिया। आधा घंटा होने को आया, नीचे लौट चलने के लिए अनुपम की छटपटाहट लगातार बढ़ती ही जा रही थी। अब तो पापा को भी अपने डरपोक बेटे पर गुस्सा आ गया। गनीमत थी कि उन्होंने अनुपम को एक चपत नहीं लगाई। अच्छी-खासी हवाखोरी की किरकिरी हो गई थी।
स्नेह सम्मेलन का मौसम था। वातावरण में मौज-मजे की खुनक थी। पढ़ाई पर जोर कम था। एक दोपहर क्लास टीचर कक्षा में आई और मेज पर ही बैठ गई। बिना बताए बच्चे जान गए कि आज कुछ खास बात है। एक रेडियो जॉकी के अंदाज में हवा में हाथ लहराकर टीचर ने घोषणा की कि हम लोग पिकनिक पर जा रहे हैं। पिकनिक पूरे दो दिन और दो रातों की होगी। हर किसी को पिकनिक में आना जरूरी है। बच्चे तो खुशी से उछल पड़े। किलकारियाँ भरने लगे और मारे उत्तेजना के मेज थपथपाने लगे। इधर अनुपम के पेट में मारे डर के मरोड़े उठने लगे। दो दिन तो ठीक है, घर से दूर एक रात भी वह कैसे निकाल पाएगा?
रात को खाने की मेज पर अनुपम का लटका हुआ मुँह देखकर पापा ने उसका कारण पूछा। पिकनिक की बात के साथ बिना रुके अनुपम ने यह भी बता दिया कि दो दिनों तक मटरगश्ती करने के बजाए वह घर में रहकर पढ़ाई करना चाहता है। इसलिए पापा उसके लिए डॉक्टर के प्रमाण पत्र की व्यवस्था कर दे।
पापा सब जानते थे कि पिकनिक छोड़कर पमपम को पढ़ाई क्यों सूझ रही है। उन्होंने कड़े शब्दों में कह दिया कि अनुपम को जाना ही होगा। पढ़ाई होते रहेगी। दोस्तों के साथ मिल-जुलकर रहने के मौके बार-बार नहीं मिलते। पिकनिक पर जाओगे तो दो बातें सीखकर ही आओगे। अब तो दिन के उजाले में भी खाने-खेलने से अनुपम का मन उचट गया।

जंगल के अँधेरे में जो होगा सो होगा, सहपाठियों के सामने पोल खुल जाएगी सो अलग। बड़ा स्मार्ट बना फिरता था बच्चू। आखिर पिकनिक का दिन आ पहुँचा।बच्चे खुशी-खुशी बस में सवार हुए। गाते-हँसते, शोर मचाते सब चल पड़े। अनुपम अपनी सीट पर सहमा-दुबका बैठा रहा।
झमझमा फॉल्स पहुँचकर उसने देखा कि जंगल के बीच में खुले हिस्से में 30-35 छोटे-छोटे तंबू लगे हैं। यहीं उन सबको रहना-सोना था। अनुपम अपने जॅकेट के अंदर हनुमान चालीसा की पोथी भींचे हुए बस से नीचे उतरा। टीचर ने बताया कि हर तंबू में दो बच्चे रहेंगे। अपना-अपना पार्टनर चुन लो। इस बार अनुपम के सामने कोई दुविधा नहीं थी। उसने लपककर नाहर को जा पकड़ा।
सच तो उसका नाम अजीत था और वह स्कूल का जूडो चैंपियन था। दोस्तों ने उसका नाम अजीत उर्फ लायन रख छोड़ा था। हिन्दी के शिक्षक ने उसका नाम बदलकर नाहर कर दिया था। अनुपम का पार्टनर बनने के लिए नाहर ने हाँ तो कह दिया था, लेकिन उसके चेहरे पर परेशानी के भाव थे। अनुपम खुश था कि जूडो चैंपियन के साथ रहते अँधेरे से निकलकर कोई उसका बिगाड़ नहीं सकता था।
रात ठंडी थी। खाना खाने के बाद दोस्तों की हँसी-ठिठौली में शामिल हुए बिना ही अनुपम और नाहर बिस्तर में आ दुबके। कंदील बुझाए बगैर ही दोनों ने अपने-अपने स्लीपिंग बैग की झिप चढ़ा ली। अनुपम इंतजार करता रहा कि नाहर अब रोशनी बंद करेगा, तब रोशनी बंद करेगा। तभी एक खरखरी फुसफुसाहट से अनुपम चौंक उठा। फिर उसे ध्यान में आया कि नाहर उससे कुछ पूछ रहा है।
'क्या तुम्हें अँधेरे से डर लगता है?' अनुपम को अपना भेद खुलता लगा। अरे, यह क्या देख रहा था वह... नाहर खुद थरथर काँप रहा था। नाहर ने बताया कि 'उसे अँधेरेसे बहुत डर लगता है।' और एक आश्चर्य की बात हुई, अनुपम ने खुद को यह कहते सुना कि अँधेरे से क्या डरना? अब वह स्लीपिंग बैग परे हटाकर उठ बैठा। यह तो अद्भुत था। अनुपम को अपने आप पर विश्वास ही नहीं हो रहा था। उसने नाहर को थपथपाकर कहा कि दोस्त, तुमतो एकदम पोंगे निकले। डरो मत। मैं तुम्हारे साथ हूँ। तुम मेरा हाथ थाम लो और बेफिक्र होकर सो जाओ।
अनुपम का हाथ थामकर नाहर निश्चिंत हो गया। 'लेकिन तुम मुस्कुरा क्यों रहे हो? कहीं यह बात सब को बता तो नहीं दोगे?' नाहर ने पूछा। 'तुम्हारी यह हालत देखकर मुझे ऐसा ही एक पगला लड़का याद आ गया' अनुपम ने दूर अँधेरे में ताकते हुए कहा, 'लेकिन वह पुरानी बात है।'

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें