मंगलवार, 27 अप्रैल 2010

बच्चे सीख रहे हैं सेविंग


शेष नारायण बंछोर
पैसा कमाना जितना आसान है, उतना ही मुश्किल है उसे सही तरीके से खर्च करना। उसमें बचत करना तो और भी मुश्किल माना जाता है। तो बच्चों को कैसे बताएँ कि बचत क्या होती है। यदि छोटी छोटी बातों से बचत की आदत बचपन में डालें तो वे बड़े होने तक अच्छे सेवर बन जाएँगे।
पिगी बैंक से शुरुआत
पिगी बैंक के द्वारा बच्चों को सेविंग के बारे में बताया जा सकता है। रोज बच्चों को कुछ रुपए देकर उन्हें पिगी बैंक में डालने के लिए कहें। जब एक महीना पूरा हो जाए तब बच्चे के साथ बैठकर गिनें और यदि राउंड फिगर न बन रहा हो तो उसमें कुछ रुपए मिला कर उस रकम को पूरी कर दें। इससे बच्चे का उत्साह बढ़ेगा
खेल के जरिए सीख
आजकल मार्केट में मोनोपॉली, लाइफ गेम, बिजनेस जैसे कई गेम्स आ गए हैं, जो बच्चों को सेविंग, इंश्योरेंस पालिसी के फायदे बताते हैं। गेम ऑफ लाइफ में दो से ज्यादा बच्चे होने पर सैलेरी कम हो जाती है। इस तरह के गेम्स से बच्चों को लाइफ के अप्स एंड डाउन की भी जानकारी मिलती है।
सेविंग की आदत डाल रखी है
प्रिया जैन कहती हैं कि अपने दोनों बच्चों आशी और युग को अभी से सेविंग की आदत डाल रखी है। घर वाले या मेहमान इन्हें रुपए देते हैं तो ये अपने पिगी बैंक में डाल देते हैं। फिर इनसे अपनी पसंद की चीज ले लेते हैं। मेरा मानना है कि इन्हें इसकी आदत अभी से लग जाए तो बचत के फायदे समझ में आने लगेंगे।
माता-पिता की सीख बच्चों को
रितु जोशी कहती हैं कि माता-पिता ने सेविंग की जो आदत डाली थी, वही मैंने अपने दोनों बच्चों में डाल रखी है। इन्हें जो पॉकेट मनी मिलती है वह उसमें अपना पेट्रोल और अन्य खर्चों का बजट बनाते हैं। बचे हुए रुपए जमा करते रहते हैं। इस दौरान यदि उन्हें किसी भी चीज की आवश्यकता होती है तो वे सेविंग किए रुपए से अपनी जरूरत पूरी कर लेते हैं।
मम्मी ने सिखाया सेविंग करना
अनीशा जोशी ने बताया कि मम्मी और पापा जो पॉकेट मनी देते हैं, उसमें से कुछ रुपए बचाकर पिगी बैंक में डालते हैं। यह हमें मम्मी ने सिखाया है। इसी से हम पैसों का महत्व भी जान पाए।
गाड़ी लेने के लिए बचत
खुशी खण्डेलवाल कहती हैं कि पहले मुझे जितने भी पैसे मिलते थे सब खर्च कर डालती थी। तब एक बार मम्मी ने बहुत डाँटा कि तुम पैसे इतनी जल्दी खर्च क्यों कर देती हो। तब से मैंने सोच लिया था कि अतिरिक्त खर्चे कम कर दूँगी। मुझे गाड़ी लेना है इसके लिए मैं सेविंग कर रही हँ।
जल्दी आ जाएगी बाइक
दिपेश सोमानी ने बताया कि मुझे बड़ा होकर अच्छी मोटर बाइक लेना है इसलिए मैं अभी से सेविंग कर रहा हँ। मम्मी-पापा ने कहा था कि सेविंग करोगे तो तुम्हारी बाइक जल्दी आ जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें