गुरुवार, 21 अक्तूबर 2010

यहां लड़ा गया था इतिहास का भीषण युद्ध


विश्व इतिहास कई ऐसे युद्धों का गवाह है जिसमें मानवता को बड़ी हानि उठानी पड़ी थी। भारत में ऐसे कई युद्ध हुए हैं जिन्होंने इतिहास ही बदल डाला।
ऐसा ही एक युद्ध था- कलिंग युद्ध।
इसने भारतीय इतिहास के पूरे कालखंड को ही बदल कर रख दिया था। इस युद्ध को भारतीस इतिहास का भीषणतम युद्ध कहा जाता है।
कलिंग युद्ध सम्राट अशोक के नेत़ृत्व में लड़ा गया था। इस युद्ध में हुए भीषण रक्तपात और नरसंहार ने चक्रवती सम्राट अशोक का ह्दय परिवर्तन कर दिया था।
युद्ध की विभिषिका को देखते हुए अशोक ने जीवन भर युद्ध न करने की शपथ ली थी और बौद्ध धर्म को स्वीकारते हुए आजीवन इसकी शिक्षाओं को प्रसारित करने का प्रण लिया।
यह स्थान महाभारत काल का है। यहां प्राचीन समय में अश्वत्थामा-विहार था। इसलिए यहां स्थित पर्वत को अश्वत्थामा पर्वत भी कहा जाता है।
वर्तमान में यहां पर्वत में बौद्ध गुफाएं हैं। यह स्थान अपने गर्त में इतिहास की अनेक परतें समेटे हुए हैं।
कैसे पहुंचे- यह स्थान उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर से 5 किलोमीटर दूर है।
यहां आने के लिए आसानी से साधन मिल जाते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें