रविवार, 12 जून 2011

चुटकुले

एक आदमी एक बड़ा-सा डिब्बा लेकर बस मे घुसा और ज़ोर से चिल्लाया-‘खामोश, कोई अपनी जगह से नहीं हिलेगा।’
(बस मे सब लोग एकदम शांत हो गए)
फिर वह चिल्लाया- ‘गबलु कुल्फीवाला आपके पास आएगा।’

******************
एक भले आदमी ने दिन में मच्छर को देखा और बोला- ‘अरे, तुम तो रात मे ही आते हो न, तो फिर अभी क्यो आ गए?’
मच्छर बोला- ‘मार्च महीना है न, टार्गेट पूरा करना है । ओवर टाइम कर रहा हूं।’

******************

टीचर- ‘हर काम को सम्भव बनाने की कोशिश करना चाहिए। तभी हम सफल हो पाएंगे।’
छात्र- ‘मैडम जी! तो फिर आप अपने एक हाथ में दो तरबूज़ उठाकर दिखाइए।’

******************

एक बहानेबाज़ कर्मचारी का दादा उसके दफ्तर में जाकर उसके बॉस से बोला-
‘इस दफ्तर में सुनील नाम का व्यक्ति काम करता है। मुझे उससे मिलना है, वह मेरा पोता है।’
बॉस ने मुस्करा कर कहा- ‘मुझे अफसोस है, आप देर से आए हैं, वह आपकी नाज़ुक हालत को देखने के लिए छुट्टी लेकर अस्पताल जा चुका है।’

******************

एक आदमी दूसरे आदमी से- ‘आप एक हफ्ते में कितनी बार शेव करते हो?’
दूसरा आदमी- ‘हफ्ते में नहीं, मै दिन में 35-40 बार शेव करता हूं।’
पहला आदमी- ‘क्या आप पागल हो।’
दूसरा आदमी- ‘नहीं, मै नाई हूं!!!’

******************

एक बार संता का गधा भाग गया। संता मंदिर गया और देर तक भगवान की मूर्ती के आगे खड़ा होकर प्रार्थना करता रहा।
बंता- ‘संता, तुम भगवान से यही मांग रहे हो न कि तुम्हारा गधा तुम्हे वापस मिल जाए।’
संता- ‘नहीं यार, मैं तो भगवान को थैंक्यू बोल रहा हूं।’
बंता- ‘क्यों?’
संता- ‘अरे भगवान की कृपा से जब गधा भागा तो मैं उसमें सवार नहीं था। अगर होता तो मैं भी उसके साथ भाग जाता।’

******************

संता बंता से- ‘क्या तुमने कभी झूठ पकड़ने वाली मशीन देखी है?’
बंता- ‘हां, देखी है। मेरी अभी उसी से शादी हुई है।’

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें