शुक्रवार, 10 जून 2011

खाना खाने से पहले आचमन क्यों करना चाहिए?

कहते हैं स्वस्थ्य शरीर में ही स्वस्थ्य मस्तिष्क निवास करता है और जिसका शरीर स्वस्थ्य रहता है वह जीवन का हर दिन पूरी ऊर्जा व खुशी के साथ जीता है और उसे अपने जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त होती है। हमारे यहां दैनिक जीवन से जुड़ी कई परंपराएं हैं। उन्ही में से कुछ परंपराएं ऐसी हैं जो हमारे स्वास्थ्य को अच्छा बनाए रखने में मदद करती है।
ऐसी ही एक परंपरा है भोजन के समय आचमन की। भोजन से पहले आचमन किया जाता है। आचमन करते समय हाथ में जल लेकर पहले तीन बार उसे खाने की प्लेट की चारों तरफ घुमाते हैं। उसके बाद मन ही मन ईश्वर का स्मरण किया जाता है और ईश्वर को नैवेद्य ग्रहण करने की प्रार्थना तो कि ही जाती है। साथ ही उन्हें भोजन प्रदान करने के लिए धन्यवाद दिया जाता है। उसके बाद तीन बार आचमन लेकर उसे ग्रहण किया जाता है।
माना जाता है कि ऐसा करने से ईश्वर का आर्शीवाद तो प्राप्त होता ही साथ ही भोजन भी बहुत जल्दी पच जाता है और भोजन से पूरी तरह से सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होती है। इसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी है वह यह कि भोजन से पहले थोड़ा जल ग्रहण करने से आहार नलिका जो थोड़ी सिकुड़ी हुई होती है खुल जाती है। जिससे भुख तो बढ़ती ही है साथ ही पाचन संबंधित कोई समस्या भी नहीं होती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें