शुक्रवार, 17 जून 2011

त्वचा से जुड़ी हर समस्या हो जाएगी नौ दो ग्यारह!

प्रदूषण का क्षेत्र अब सीमित नहीं रहा। उसने हर दिशा और क्षेत्र में अपने पैर पसार लिये हैं। जहां-जहां तक इंसान की पहुंच है वहां पर उसके पीछे-पीछे ही प्रदूषण भी पहुंच ही जाता है। हवा, पानी और जमीन का हर कोना इसके चगुंल में आ चुका है। प्रदूषण ने ही इंसानी शरीर को आज कई बीमारियों में जकड़ रखा है। जिनमें से कुछ के बाकायदा प्रचलित नाम हैं तो कुछ का नामकरण संस्कार अभी होना बचा है।
प्रदूषण ने ही हमारे शरीर की प्राकृतिक खूबसूरती को छीनकर कई सारे त्वचा रोगों को जन्म दिया है। आज दुनिया का हर दूसरा व्यक्ति चमड़ी से जुड़े किसी न किसी रोग से जूझ रहा है। खुजली, जलन, फुंसियां, घमोरियां, दराद, लाल-सफेद चकत्ते... जैसी कई समस्याएं हैं जिनसे हर कोई परेशान है या कभी न कभी रह चुका है। यहां हम कुछ ऐसे घरेलू उपाय दे रहे हैं जो बर्सों से आजमाए और परखे हुए हैं। ये नुस्खे कारगर तो हैं ही साथ ही इनकी सबसे बड़ी खाशियत यह है कि इनका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है, ऊपर से ये हैं भी बहुत ही सस्ते..
1. नीम की पत्तियों को पीस कर पानी के साथ पीना बहुत लाभकारी होता है।
2. खुजली होने पर मूली के बीज पानी में पीस कर गरम करके लगाने तत्काल लाभ होता है।
3. पालक, मूली के पत्ते, प्याज, टमाटर, गाजर, अमरुद, पपीता आदि खाने से बहुत जल्दी लाभदायक नतीजे प्राप्त होते हैं। 4. सुबह खाली पेट चार-पांच तुलसी की पत्तियां चूंसने से भी त्वचा रोगों में स्थाई लाभ होता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें