सोमवार, 13 जून 2011

और घातक बीमारियां होंगी छू मंतर

बस एक गिलास जूस
अच्छे स्वास्थ्य के लिये प्राकृतिक जीवनशैली और सीजनल फलों का नियमित रूप से सेवन करना चाहिये। यह बात किसी के लिये भी नई नहीं है। फल बेहतर स्वास्थ्य के लिये बेहद फायदेमंद होते हैं यह बात सभी की जानकारी में है और लोग अपनी सुविधा और क्षमता के अनुसार ही फलों को अपने डेली रुटीन में शामिल भी करते हैं।

लेकिन इसी जानकारी को थोड़ा और आगे बढ़ाकर देखें तो वह और भी ज्यादा प्रशन्न होने वाली है। हाल ही में हुआ एक नवीन वैज्ञानिक शोध यह सिद्ध करता है कि फल न केवल स्वस्थ रहने के लिये बल्कि बीमार होने पर उससे छुटकारा पाने में भी काफी कारगर होते हैं। तनाव आज एक मानसिक रोग के रूप में व्यापक महामारी का रूप लेता जा रहा है।
मानसिक तनाव ही आगे चलकर अनिद्रा, डिप्रेशन, फ्रस्टेशन जैसी बीमारियों का रूप ले लेता है। सुखद समाचार यह है कि तनाव और तनाव से पैदा होने वाली दूसरी तमात बीमारियों में अनार फल का ज्यूस बेहद फायदेमंद होता है। अगर आप वर्क प्रेशर से जूझ रहे हैं तो चिंता करने की जरूरत नहीं है रोज एक ग्लास अनार का जूस पीना शुरु कर दीजिए वर्क प्रेशर कम हो जाएगा।
ब्रिटेन के क्वीदन मारग्रेट यूनीवर्सिटी के शोधकर्ताओं का कहना है कि रोज आधा लीटर अनार का जूस लेने से ब्लड प्रेशर सामान्य बना रहता है साथ ही यह स्ट्रेस हार्मोन भी व्यंक्ति पर हावी नहीं होता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि अगर आप तनाव से जूझ रहे हैं तो दो सप्तारह तक अनार का जूस रोज पिएं। तनाव दूर हो जाएगा।यूं तो सभी फलों के जूस में अलग अलग फायदे हैं लेकिन अनार का जूस तनाव से मुक्त रखने में सर्वाधिक कारगर मददगार की भूमिका निभाता है।
विशेष: ब्लड प्रेशर, स्ट्रेस, अनिद्रा, फ्रस्टेशन, डिप्रेशन आदि समस्याओं में ताजा अनार ज्यूस बहुत तेजी से फायदा पहुंचाता है। इसलिये इनमें से किसी भी रोग से ग्रसित व्यक्ति को इसे तत्काल अपने रुटीन में शामिल करना चाहिये।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें