शनिवार, 25 जून 2011

मीठे आम के अद्भुत गुणों को जानकर आप भी आश्चर्य में पड़ जाएंगे

बाजोरों में इस समय आम की बहार छाई हुई है। आम सिर्फ स्वाद में ही नम्बर वन नहीं है, यह अनेक गुणों का भी खजाना है। आइये जानते हैं कि आम किन-किन घातक बीमारियों में मिटाने में हमारी मदद कर सकता है 1. शहद के साथ पके आम के सेवन से क्षयरोग एवं प्लीहा के रोगों में लाभ होता है तथा वायु और कफ दोष दूर होते हैं।
2. यूनानी चिकित्सकों के अनुसार, पका आम आलस्य को दूर करता है तथा मूत्र संबंधी रोगों का सफाया करता है।
3. प्राकृतिक रूप से पका हुआ आम क्षयरोग यानी टीबी को मिटाता है, गुर्दे एवं बस्ति (मूत्राशय) खोई हुई शक्तियों को लौटाता है।
4. जिन लोगों को शुक्रप्रमेह शारीरिक विकारों और वातादि यानी वायु संबंधी दोषों के कारण संतानोत्पत्ति न होती हो उनके लिए पका आम किसी वरदान से कम नहीं है। मतलब कि संतान सुख से वंचित दंपत्ती के लिये आम बेहद लाभदायक होता है।
5. प्राकृतिक रूप से पके हुए ताजे आम के सेवन से पुरूषों में शुक्राणुओं की कमी, नपुंसकता, दिमागी कमजोरी आदि रोग दूर होते हैं।
विशेष- पाठकों को लग सकता है कि आम तो हम सभी खाते ही हैं इसमें नई बात क्या है? लेकिन ध्यान देने की बात यह है कि आयुर्वेद में ऐसे आम के गुणों की बात की गई है जो प्राकृतिक रूप से पका हो, यानी बगैर किसी केमीकल ट्रिटमेंट या रासायनिक प्रयोग से पका हो।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें