सोमवार, 8 जून 2015

मेहनत कभी बेकार नहीं जाती, फल जरूर मिलता है

बॉलीवुड हीरो बनाकर लोगो का दिल जीतूँ , यही तमन्ना है : राजेश अवस्थी 
कई टीवी धारावाहिको में अपनी भूमिका में जान डालने वाले राजेश अवस्थी आज फिलमी दुनिया में एक जाना पहचाना नाम है। एल्बम और शार्ट फिल्मो से करियर शुरू करने वाले राजेश के नाम आज कई छत्तीसगढ़ी,भोजपूरी फि़ल्में और टीवी धारावाहिक है। बनू मैं तेरी दुल्हन सहित छोटे पर्दे के कई सीरियल्स में दमदार भूमिका निभा चुके हैं। बचपन में कलाकारों का नक़ल करने वाला राजेश अवस्थी आज फि़ल्मी दुनिया का एक जाना पहचाना नाम है। राजेश अवस्थी जितने बड़े अभिनेता है उससे बड़े सिंगर और डांसर भी हैं। उनकी आवाज में गजब का जादू है। उन्होंने सात फिल्मे की है जिसमे उनकी भोजपुरी फिल्मे काफी सुपर डुपर रही है।वे कहते हैं कि मेहनत कभी बेकार नहीं जाती, मैंने संघर्ष किया इसलिए यहां तक पहुंच सका। राजेश अवस्थी ने दैनिक सन स्टार में कुछ क्षण बिताये। प्रस्तुत है उनसे हुई बातचीत के संपादित अंश।

0 अभिनय की ओर आपका रुझान कैसे हुआ ?
00 बचपन से ही मेरा इस ओर रुझान था। जब छोटा था तब कलाकारों का नकल किया करता था। मया दे दे मया ले ले फिल्म की शूटिंग देखकर मुझे भी काम करने की ललक पैदा हुई और मैं आज आपके सामने हूँ।
0 शुरू में आपको काफी संघर्ष करना पड़ा होगा,क्या क्या किया। 
00  कोई संघर्ष नहीं करना पड़ा क्योकि मेरे भैया प्रकाश अवस्थी एक बड़े कलाकार है। छत्तीसगढ़ी फिल्म और एलबम में ब्रेक मिला। संघर्ष करते हुए वे लगातार मुंबई में किस्मत आजमाते रहे। आखिर मेहनत रंग लाई और छोटे पर्दे की भूमिकाएं मिलने लगी। धीरे-धीरे धारावाहिकों में दमदार रोल मिलने के साथ ही बड़े पर्दे पर भी ब्रेक मिला। राजेश कहते हैं कि मेहनत कभी बेकार नहीं जाती, मैंने संघर्ष किया इसलिए यहां तक पहुंच सका।
0 करियर की शुरुआत कैसे की?
00 सिंगिंग मेरा शौक है। डांस और गायन से मैं फिल्मो में आया हूँ। आज भी मैं अपने को सिंगर ज्यादा समझता हूँ।
0 आप किसे अपना प्रेरणाश्रोत मानते है ?
00 मेरी माँ उमरलेखा अवस्थी मेरी प्रेरणाश्रोत है। आज जो कुछ भी हूँ उन्ही की बदोलत हूँ।
0 ऐसा कोई क्षण जब बहुत खुशी मिली हो और ऐसा कोई क्षण जब निराशा हुई हो?
00 कई बार निराशा हुई है। मुम्बई में तो बहुत ही निराशा मिली थी बाद में मुझे काम ही काम मिलता रहा। निराशा की तो आदत ही पढ़ गयी थी। इसका सबसे बड़ा सार है की काम करो फल की चिंता मत करो।
0 कोई सपना जो आपके मन में है और उसे पूरा होते हुए देखना चाहते हो?
00  बॉलीवुड का हीरो बनकर लोगो का दिल जीतूं ब्स यही तमन्ना है और उसे पूरा करने की कोशिश करूंगा। बाद में हॉलीवुड की फिल्मे भी करने की इच्छा है।
0 कभी ऐसा क्षण आया है जब आप अतिउत्साहित हुए हों ?
00 हाँ जब मेरी भोजपुरी फिल्म धुरंधर को 6 अवार्ड मिले तो सुखद अनुभव हुआ था। इस फिल्म में मैंने रविकिशन जी के साथ काम किया है।
0 रील लाइफ और रीयल लाइफ में क्या अंतर है?
00 बहुत अंतर है। रील लाइफ में वही करते है जो स्टोरी में होता है। रियल लाइफ में अपने मन के हिसाब से करते है।
0 छत्तीसगढ़ी फिल्मो में आप सबसे अच्छा एक्टर किसे मानते हैं ?
00 करन खान को , निसंदेह वह बेहतर एक्टर है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें