गुरुवार, 29 अप्रैल 2010

पूरे आत्मविश्वास से जमे रहना


देखा जाए तो इन छुट्टियों में करने को बहुत से काम हैं। देखना यह है कि आप क्या-क्या कर पाते हैं? पर इन दिनों जो भी करना उसे पूरे आत्मविश्वास के साथ करना। हो सकता है कोई नई चीज सीखने में शुरुआती मुश्किलें आए, पर उनसे घबराना नहीं।

याद है ना कि जो मैदान में डटा रहता है सफलता उसे ही मिलती है। सीखने के लिए यह बात याद रखना कि धीरे-धीरे ही आगे बढ़ा जाता है। मतलब यह कि एक ही दिन में कोई कलाकार नहीं बन जाता बल्कि उसके लिए रोजाना प्रयास करने पड़ते हैं। तो अगर इन छुट्टियों में मन लगाकर, धैर्य के साथ किसी भी मैदान में जमे रहोगे तो रन तो अपने-आप बन जाएँगे। और फिर छुट्टियाँ भी खूब मनोरंजक बीतेंगी।

हमारा विश्वास है कि जब ये छुट्टियाँ खर्च हो जाएँगी, तब आप आपके भीतर कुछ ना कुछ बदलाव जरूर पाओगे। इस बार की सुहानी की कहानी भी यही कहती है। उसे पढ़ना भी और उससे बहुत कुछ समझना भी।

याद रखना, छुट्टियाँ अभी खूब है। छुट्टियों में क्या कुछ किया जाए इसकी याद दिलाने के लिए नन्ही दुनिया के माध्यम से हम आपसे जुड़े रहेंगे। छुट्टियों को रंग-बिरंगा करने की काफी चीजें आपको यहाँ मिल जाएँगी बाकी आपकी ये छुट्टियाँ हमें भी बहुत कुछ मजेदार करने के लिए कहती हैं।

एक चिट्‍ठी माँ के नाम
सोचो एक दिन के लिए अगर मम्मी घर के कामों से छुट्टी ले ले तो क्या होगा? जब इसका जवाब सोचोगे तो पता चलेगा कि आपकी छोटी-सी दुनिया में मम्मी की उपस्थिति कितनी महत्वपूर्ण है। आप सभी कई बार किसी बात पर मम्मी से रुठ जाते हैं। मम्मी आपको मनाती है, पर क्या कभी आपने अपनी मम्मी को बताया कि आप उनसे कितना प्यार करते हो?

हम जिनसे प्रेम करते हैं, उनसे कहने की जरूरत तो नहीं होती है, पर अगर हम उन्हें कहें तो वे सुनकर प्रसन्न ही होंगे। हमें यह बात उन्हें बताना भी चाहिए। आपको मम्मी के नाम एक चिट्ठी लिखकर हमें भेजना है। 'मदर्स डे' पर यह चिट्‍ठी आप अपनी माँ को ले जाकर दें। अपनी लिखी इन चिट्‍ठियों को आप और अन्य यूजर्स ऑनलाइन भी पढ़ सकेंगे।

1 टिप्पणी:

  1. अब तो मैं भी इक प्यारी सी चिट्ठी मम्मी को लिखूंगी .

    *******************************
    पाखी की दुनिया में इस बार चिड़िया-टापू की सैर !!

    उत्तर देंहटाएं